Woh Sham Kuchh Ajeeb Thi | Khamoshi | Kishore Kumar | Hemant Kumar | Rajesh Khanna | Old is Gold Songs

Woh Sham Kuchh Ajeeb Thi | Khamoshi | Kishore Kumar | Hemant Kumar | Rajesh Khanna | Old is Gold Songs

Song Title: Woh Sham Kuchh Ajeeb Thi
Movie: Khamoshi
Singer: Kishore Kumar
Lyrics: Gulzar
Music: Hemant Kumar

Woh Sham Kuchh Ajeeb Thi : Download

Download & Enjoy this superhit classic old hindi mp3 song ‘Woh Sham Kuchh Ajeeb Thi‘ from the movie Khamoshi starring Rajesh Khanna, Waheeda Rehman, Nazir Hussain, Lalita Pawar, Snehlata, Deven Verma. The vocal artist of this song is Kishore Kumar.

पसंद आया ? अब आप जब चाहे इस गीत तो download करके सुन सकते है | आइये साथ में गाते और गुनगुनाते है Woh Sham Kuchh Ajeeb Thi

DOWNLOAD HERE

To Download the MP3 version of ‘Woh Sham Kuchh Ajeeb Thi‘, click and select the ‘Save As’ option in your location to download this song.

Lyrics

Woh shaam kuchh ajeeb thi
Yeh shaam bhi ajeeb hai
Woh kal bhi paas paas
Thi woh aaj bhi kareeb hai
Woh shaam kuchh ajeeb
Thi yeh shaam bhi ajeeb hai
Woh kal bhi paas paas thi
Woh aaj bhi kareeb hai
Woh shaam kuchh ajeeb thi

Jhuki hui nigaahon mein
Kahin mera khayaal tha
Dabi dabi hansi mein
Ik haseen saa gulaal tha
Main sochta tha mera
Naam gunguna rahi hai woh
Main sochta tha mera
Naam gunguna rahi hai woh
Na jaane kyon laga mujhe
Ke muskura rahi hai woh
Woh shaam kuchh ajeeb thi

Mera khayaal hai abhi
Jhuki hui nigaah mein
Khuli hui hansi bhi hai
Dabi hui si chaah mein
Main janta hoon mera
Naam gunguna rahi hai woh
Yahi khayaal hai mujhe ke
Saath aa rahi hai woh
Woh shaam kuchh ajeeb thi
Yeh shaam bhi ajeeb hai
Woh kal bhi paas paas thi
Woh aaj bhi kareeb hai
Woh shaam kuchh ajeeb thi.

पसंद आया ? अब आप जब चाहे इस गीत तो download करके सुन सकते है | आइये साथ में गाते और गुनगुनाते है Woh Sham Kuchh Ajeeb Thi.

DOWNLOAD HERE

To Download the MP3 version of ‘Woh Sham Kuchh Ajeeb Thi‘, click and select the ‘Save As’ option in your location to download this song.

Lyrics

वह शाम कुछ अजीब थी
यह शाम भी अजीब है
वह कल भी पास पास
थी वह आज भी करीब है
वह शाम कुछ अजीब
थी यह शाम भी अजीब है
वह कल भी पास पास थी
वह आज भी करीब है
वह शाम कुछ अजीब थी

झुकी हुई निगाहों में
कहीं मेरा ख़याल था
दबी दबी हंसी में
इक हसीं सा गुलाल था
मैं सोचता था मेरा
नाम गुनगुना रही है वह
मैं सोचता था मेरा
नाम गुनगुना रही है वह
न जाने क्यों लगा मुझे
के मुस्कुरा रही है वह
वह शाम कुछ अजीब थी

मेरा ख़याल है अभी
झुकी हुई निगाह में
खुली हुई हँसी भी है
दबी हुई सी चाह में
मैं जानता हूँ मेरा
नाम गुनगुना रही है वह
यही ख़याल है मुझे के
साथ आ रही है वह
वह शाम कुछ अजीब थी
यह शाम भी अजीब है
वह कल भी पास पास थी
वह आज भी करीब है
वह शाम कुछ अजीब थी.

oldisgold

oldisgold

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!