O Haseena Zulfonwali Jaane Jahan- Teesri Manzil| Mohd Rafi and Asha Bhosle Evergreen Hits – Old is Gold songs

O Haseena Zulfonwali Jaane Jahan- Teesri Manzil| Mohd Rafi and Asha Bhosle Evergreen Hits – Old is Gold songs

Song: O Haseena Zulfonwali Jaane Jahan
Movie: Teesri Manzil (1966)
Artist: Asha Bhosle and Mohammed Rafi
Music Director: R.D. Burman
Actor: Shammi Kapoor, Asha Parekh, Nazima, Premnath, Prem Chopra, Iftekhar, Helen, K. N. Singh and Salim Khan
Lyricist: Majrooh Sultanpuri

O Haseena Zulfonwali Jaane Jahan : Download

Download & Enjoy this super hit song 'O Haseena Zulfonwali Jaane Jahan' from the Movie Teesri Manzil starring Shammi Kapoor, Asha Parekh, Nazima, Premnath, Prem Chopra, Iftekhar, Helen, K. N. Singh and Salim Khan and sung by Asha Bhosle and Mohammed Rafi music by R.D. Burman.

 

पसंद आया ? अब आप जब चाहे इस गीत तो download करके सुन सकते है | आइये साथ में गाते और गुनगुनाते है O Haseena Zulfonwali Jaane Jahan

O Haseena Zulfonwali Jaane Jahan Download

To Download the MP3 version of ‘O Haseena Zulfonwali Jaane Jahan' , click and select the ‘Save As’ option in your location to download this song.

Lyrics

ओ हसीना जुल्फों वाली जानेजहाँ
ढूंढती हैं काफिर
आँखे किसका निशाँ
ओ हसीना जुल्फों वाली जानेजहाँ
ढूंढती हैं काफिर
आँखे किसका निशाँ
महफ़िल महफ़िल ऐ
शामा फिरती हो कहा
महफ़िल महफ़िल ऐ
शामा फिरती हो कहा

वह अनजाना ढूंढती हूँ
वह देवाना ढूँढती हु
जलाकर जो छिप गया है
वह परवाना ढूँढती हु

गर्म है तेज है यह निगाहें मेरी
काम आ जाएंगी सर्द आहें मेरी
तुम किसी राह में तोह मिलोगे कही
अरे इश्क हु मैं
कही ठहरता ही नहीं
मै भी हु गलियो की परछाई
कभी यहाँ कभी वहाँ
शाम ही से कुछ हो जाता
है मेरा भी जादू जावा
ओ हसीना जुल्फों वाली जानेजहाँ
ढूंढती हैं काफिर
आँखे किसका निशाँ
महफ़िल महफ़िल ऐ
शामा फिरती हो कहा
महफ़िल महफ़िल ऐ
शामा फिरती हो कहा
वह अनजाना ढूंढती हूँ
वह देवाना ढूँढती हु
जलाकर जो छिप गया है
वह परवाना ढूँढती हु

छुप रहे हैं यह
क्या ढंग है आपका
आज तोह कुछ नया
रंग है आपका
है आज की रात मई
क्या से क्या हो गयी
अहा आप की सादगी
तोह ऐडा हो गयी
मै भी हु गलियो की परछाई
कभी यहाँ कभी वहाँ
शाम ही से कुछ हो जाता
है मेरा भी जादू जावा
ओ हसीना जुल्फों वाली जानेजहाँ
ढूंढती हैं काफिर
आँखे किसका निशाँ
महफ़िल महफ़िल ऐ
शामा फिरती हो कहा
महफ़िल महफ़िल ऐ
शामा फिरती हो कहा
वह अनजाना ढूंढती हूँ
वह देवाना ढूँढती हु
जलाकर जो छिप गया है
वह परवाना ढूँढती हु

ठहरिये तोह सही
कहिये क्या नाम है
मेरी बदनामियों का
वफ़ा नाम है
ओहो क़त्ल कर के चले
यह वफ़ा खूब है
है नाजनीना तेरी यह ऐडा खूब है
मै भी हु गलियो की परछाई
कभी यहाँ कभी वहाँ
शाम ही से कुछ हो जाता
है मेरा भी जादू जावा
ओ हसीना जुल्फों वाली जानेजहाँ
ढूंढती हैं काफिर
आँखे किसका निशाँ
महफ़िल महफ़िल ऐ
शामा फिरती हो कहा
महफ़िल महफ़िल ऐ
शामा फिरती हो कहा
वह अनजाना ढूंढती हूँ
वह देवाना ढूँढती हु
जलाकर जो छिप गया है
वह परवाना ढूँढती हु.

पसंद आया ? अब आप जब चाहे इस गीत तो download करके सुन सकते है | आइये साथ में गाते और गुनगुनाते है O Haseena Zulfonwali Jaane Jahan

O Haseena Zulfonwali Jaane Jahan: Download

To Download the MP3 version of 'O Haseena Zulfonwali Jaane Jahan', click and select the ‘Save As’ option in your location to download this song.

Lyrics

O hasina julfon wali jaanejahan
Dhundhati hain kaafir
Aankhe kiska nishaan
O hasina julfon wali jaanejahan
Dhundhati hain kaafir
Aankhe kiska nishaan
Mehfil mehfil ae
Shama phirti ho kaha
Mehfil mehfil ae
Shama phirti ho kaha

Woh anjaana dhundhati hu
Woh dewaana dhundhati hu
Jalaakar jo chhip gaya hai
Woh parwana dhundhati hu

Garm hai tej hai yeh nigaahe meri
Kaam aa jaayengi sard aahen meri
Tum kisi raah me toh miloge kahi
Arey ishk hu main
Kahi theharta hi nahi
Mai bhi hu galiyo ki parchhaayi
Kabhi yaha kabhi vaha
Shaam hi se kuchh ho jaata
Hai mera bhi jaadu jawa
O hasina julfon wali jaanejahan
Dhundhati hain kaafir
Aankhe kiska nishaan
Mehfil mehfil ae
Shama phirti ho kaha
Mehfil mehfil ae
Shama phirti ho kaha
Woh anjaana dhundhati hu
Woh dewaana dhundhati hu
Jalaakar jo chhip gaya hai
Woh parwana dhundhati hu

Chhup rahe hain yeh
Kya dhang hai aapka
Aaj toh kuchh naya
Rang hai aapka
Hai aaj ki raat mai
Kya se kya ho gayi
Aha aap ki saadgi
Toh ada ho gayi
Mai bhi hu galiyo ki parchhaayi
Kabhi yaha kabhi vaha
Shaam hi se kuchh ho jaata
Hai mera bhi jaadu jawa
O hasina julfon wali jaanejahan
Dhundhati hain kaafir
Aankhe kiska nishaan
Mehfil mehfil ae
Shama phirti ho kaha
Mehfil mehfil ae
Shama phirti ho kaha
Woh anjaana dhundhati hu
Woh dewaana dhundhati hu
Jalaakar jo chhip gaya hai
Woh parwana dhundhati hu

Thehariye toh sahi
Kahiye kya naam hai
Meri badnaamiyo kaa
Wafa naam hai
Oho katl kar ke chale
Yeh wafa khub hai
Hai najnina teri yeh ada khub hai
Mai bhi hu galiyo ki parchhaayi
Kabhi yaha kabhi vaha
Shaam hi se kuchh ho jaata
Hai mera bhi jaadu jawa
O hasina julfon wali jaanejahan
Dhundhati hain kaafir
Aankhe kiska nishaan
Mehfil mehfil ae
Shama phirti ho kaha
Mehfil mehfil ae
Shama phirti ho kaha
Woh anjaana dhundhati hu
Woh dewaana dhundhati hu
Jalaakar jo chhip gaya hai
Woh parwana dhundhati hu.

Old is Gold

Old is Gold

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *