Na Koi Umang Hai – Kati Patang- Asha Parekh- Lata Mangeshkar Golden Hits| Old is Gold

Na Koi Umang Hai – Kati Patang- Asha Parekh- Lata Mangeshkar Golden Hits| Old is Gold

Song: Na Koi Umang HaiOld is Gold
Movie: Kati Patang
Singer: Lata Mangeshkar
Starcast: Rajesh Khanna, Asha Parekh

Na Koi Umang Hai: Download

Enjoy this Hindi classic romantic song Na Koi Umang Hai sung by Lata Mangeshkar from the blockbuster bollywood movie Kati Patang (1970), starring Rajesh Khanna & Asha Parekh. The music is composed by R.D Burman.

पसंद आया ? अब आप जब चाहे इस गीत तो download करके सुन सकते है | आइये साथ में गाते और गुनगुनाते है Na Koi Umang Hai.

DOWNLOAD HERE

Na Koi Umang Hai

To Download the MP3 version of ‘Na Koi Umang Hai‘, click and select the ‘Save As’ option in your location to download this song.

Lyrics

Na koi umang hai
Na koi tarang hai
Meri zindagi hain kya
Ek kati patang hai
Na koi umang hai
Na koi tarang hai
Meri zindagi hain kya
Ek kati patang hai
Na koi umang hai

Aakash se giri main
Yeh baar kat ke aise
Aakash se giri main
Yeh baar kat ke aise
Duniya ne phir na puchho
Duniya ne phir na puchho
Lutaa hain muz ko kaise
Na kisi kaa saath hai
Na kisi kaa sang hai
Meri zindagi hain kya
Ek kati patang hai
Na koi umang hai na
Koi tarang hai

Lag ke gale se apne
Baabul ke main na royi
Lag ke gale se apne baabul
Ke main na royi
Doli uthhi yu jaise
Doli uthhi yu jaise
Atrhi uthhi ho koi
Yahi dukh to aaj bhi
Mere ang sang hai
Meri zindagi hain kya
Ek kati patang hai

Sapnon ke dewataa kya
Tuz ko karu main arpan
Sapnon ke dewataa kya
Tuz ko karu main arpan
Patjhad ki main hoon chhaya
Patjhad ki main hoon chhaya
Main aasun kaa darpan
Yahi mera rup hai
Yahi mera rang hai
Meri zindagi hain kya
Ek kati patang hai
Na koi umang hai.

पसंद आया ? अब आप जब चाहे इस गीत तो download करके सुन सकते है | आइये साथ में गाते और गुनगुनाते है Na Koi Umang Hai.

DOWNLOAD HERE

“Na Koi Umang Hai

To Download the MP3 version of ‘Na Koi Umang Hai‘, click and select the ‘Save As’ option in your location to download this song.

Lyrics

न कोई उमंग है
न कोई तरंग है
मेरी ज़िन्दगी हैं क्या
एक कटी पतंग है
न कोई उमंग है
न कोई तरंग है
मेरी ज़िन्दगी हैं क्या
एक कटी पतंग है
न कोई उमंग है

आकाश से गिरी मैं
यह बार कट के ऐसे
आकाश से गिरी मैं
यह बार कट के ऐसे
दुनिया ने फिर न पूछो
दुनिया ने फिर न पूछो
लुटा हैं मुझ को कैसे
न किसी का साथ है
न किसी का संग है
मेरी ज़िन्दगी हैं क्या
एक कटी पतंग है
न कोई उमंग है न
कोई तरंग है

लग के गले से अपने
बाबुल के मैं न रोई
लग के गले से अपने बाबुल
के मैं न रोई
डोली उठी यु जैसे
डोली उठी यु जैसे
ात्रहि उठी हो कोई
यही दुःख तो आज भी
मेरे अंग संग है
मेरी ज़िन्दगी हैं क्या
एक कटी पतंग है

सपनों के देवता क्या
तुझ को करू में अर्पण
सपनों के देवता क्या
तुझ को करू में अर्पण
पतझड़ की मैं हूँ छाया
पतझड़ की मैं हूँ छाया
मैं ासून का दर्पण
यही मेरा रूप है
यही मेरा रंग है
मेरी ज़िन्दगी हैं क्या
एक कटी पतंग है
न कोई उमंग है.

Old is Gold

Old is Gold

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!