Hamne Suna tha Ek hai Bharat

Hamne Suna tha Ek hai Bharat

Song: Hamne Suna tha Ek hai Bharat
Movie: Didi (1959)
Singers: Mohammed Rafi, Asha Bhosle
Lyrics: Sahir Ludhianvi
Music: N. Dutta Director:K. Narayan Kale
Cast: Sunil Dutt, Feroz Khan, Jayshree, Om Prakash, Shubha Khote, Lalita Pawar, Daisy Irani, Om Prakash, Shubha Khote, Lalita Pawar, Daisy Irani

Hamne Suna tha Ek hai Bharat: Download

Download & Enjoy this superhit classic old hindi mp3 song ‘Hamne Suna tha Ek hai Bharat‘ from the movie Didi starring unil Dutt, Feroz Khan, Jayshree, Om Prakash. The vocal artist of this song is  Asha Bhonsale, Mukesh.

पसंद आया ? अब आप जब चाहे इस गीत तो download करके सुन सकते है | आइये साथ में गाते और गुनगुनाते है Hamne Suna tha Ek hai Bharat

DOWNLOAD HERE

Hamne Suna tha Ek hai Bharat

To Download the MP3 version of Hamne Suna tha Ek hai Bharat‘, click and select the ‘Save As’ option in your location to download this song.

Lyrics

Humne suna tha ek hai bharat
sab mulkon se nek hai bharat
lekin jab nazdeek se dekha
soch samajh kar theek se dekha
humne nakshe aur hi paye
badle huye sab taur hi paye
ek se ek ki baat juda hai
dharm juda hai jaat juda hai
apne jo kuch hamko padhaya
wo to kahi bhi nazar na aaya

jo kuch maine tumko padhaya
usme kuch bhi jhoot nahi
bhasha se bhasha na mile to
iska matlab phoot nahi
ek dali par reh kar jaise
phool juda hai paat juda
bura nahi gar yuhi watan mein
dharm juda ho jaat juda
apne watan mein

wahi hai jab quran ka kehna
jo hai ved puran ka kehna
phir yeh shor sharaba kyun hai
itna khoon kharaba kyun hai
apne watan mein

sadiyon tak is desh mein baccho
rahi hukumat gairon ki
abhi talak hum sab ke muh par
dhool hai unke pairo ki
ladwao aur raj karo
ye un logo ki hikmat thi
un logo ki chal me aana
hum logo ki zillat thi
ye jo bair hai ek dooje se
ye jo phoot aur ranjish hai
unhi videshi aakaon ki
sochi samjhi bakshish hai
apne watan mein

kuch insaan brahman kyun hai
kuch insaan harijan kyun hai
ek ki itni izzat kyun hai
ek ki itni zillat kyun hai

dhan aur gyan ko
taqat walo ne apni jageer kaha
mehnat aur gulami ko
kamzoro ki taqdeer kaha
insano ka ye batwara
vehshat aur jahalat hai
jo nafrat ki shiksha de
wo dharma nahi hai laanat hai
janam se koi neech nahi hai
janam se koi mahan nahi
karam se badh kar kisi manushya ki
koi bhi pehchan nahi

ab to desh mein azadi hai
ab kyun janta fariyadi hai
kab jayega daur purana
kab ayega naya zamana

sadiyon ki bhookh aur bekari
kya ek din mein jayegi
is ujde gulshan par rangat
aate aate ayegi
ye jo naye mansube hai
aur ye jo nayi tamire hai
aane wale daur ki kuch
dhundhli dhundhli tasvire hai
tum hi rang bharoge inme
tum hi inhe chamkaoge
navyug aap nahi aayega
navyug aap nahi aayega
navyug ko tum laoge

पसंद आया ? अब आप जब चाहे इस गीत तो download करके सुन सकते है | आइये साथ में गाते और गुनगुनाते है Humne Suna Hai ek Hai Bharat.

DOWNLOAD HERE

Hamne Suna tha Ek hai Bharat

To Download the MP3 version of ‘Hamne Suna tha Ek hai Bharat, click and select the ‘Save As’ option in your location to download this song.

Humne Suna Tha Ek Hai Bharat

Lyrics

हमने सुना था एक है भारत
सब मुल्कों से नेक है भारत
लेकिन जब नजदीक से देखा
सोच समझ कर ठीक से देखा
हमने नक्शे और ही पाए
बदले हुए सब तौर ही पाए
एक से एक की बात जुदा है
धर्म जुदा है जात जुदा है
आप ने जो कुछ हम को पढाया
वो तो कही भी नज़र न आया

जो कुछ मैंने तुम को पढाया
उसमे कुछ भी झूठ नहीं
भाषा से भाषा न मिले तो
इसका मतलब फूट नहीं
इक डाली पर रह कर जैसे
फूल जुदा है पात जुदा
बुरा नहीं गर यूँ ही वतन में
धर्म जुदा हो जात जुदा
आपने वतन में

वही है जब कुरान का कहना
जो है वेद पुरान का कहना
फिर ये शोर-शराबा क्यों है
इतना खून-खराबा क्यों है
आपने वतन में

सदियों तक इस देश में बच्चो
रही हुकूमत गैरों की
अभी तलक हम सबके मुँह पर
धुल है उनके पैरों की
लडवाओ और राज करो
यह उन लोगो की हिकमत थी
उन लोगों की चाल में आना
हम लोगों की जिल्लत थी
ये जो बैर है इक दूजे से
ये जो फुट और रंजिश है
उन्ही विदेशी आकाओं की
सोची समझी बकशिश है
आपने वतन में

कुछ इन्सान ब्राह्मण क्यों है
कुछ इंसान हरिजन क्यों है
एक की इतनी इज्जत क्यों है
एक की इतनी ज़िल्लत क्यों है

धन और ज्ञान को
ताकत वालों ने अपनी जागीर कहा
मेहनत और गुलामी को
कमजोरों की तक़दीर कहा
इन्सानों का यह बटवारा
वहशत और जहालत है
जो नफ़रत की शिक्षा दे
वो धर्म नहीं है , लानत है
जन्म से कोई नीच नहीं है
जन्म से कोई महान नहीं
करम से बढ़कर किसी मनुष्य की
कोई भी पहचान नहीं

अब तो देश में आज़ादी है
अब क्यों जनता फरियादी है
कब जएगा दौर पुराना
कब आएगा नया जमाना

सदियों की भूख और बेकारी
क्या इक दिन में जाएगी
इस उजड़े गुलशन पर रंगत
आते आते आएगी
ये जो नये मनसूबे है
ये जो नई तामीरे है
आने वाली दौर की कुछ
धुधली-धुधली तस्वीरे है
तुम ही रंग भरोगे इनमें
तुम ही इन्हें चमकाओगे
नवयुग आप नहीं आएगा
नवयुग आप नहीं आएगा
नवयुग को तुम लाओगे
नवयुग आप नहीं आएगा
नवयुग को तुम लाओगे

Old is Gold

Old is Gold

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!