Apni Azadi Ko Hum

Apni Azadi Ko Hum

Song: Apni Azadi Ko Hum
Movie: Leader (1964)
Cast: Dilip Kumar,Vyjayantimala
Lyrics : Shakeel Badayuni
Music : Naushad Ali
Singer : Muhammad Rafi

Apni Azadi Ko Hum: Download

Download & Enjoy this super hit song ‘Apni Azadi Ko Hum‘ from the movie Leader (1964) starring Dilip Kumar,Vyjayantimala in the lead. The vocal artist of this song is Muhammad Rafi & lyrics by Shakeel Badayuni.

पसंद आया ? अब आप जब चाहे इस गीत तो download करके सुन सकते है | आइये साथ में गाते और गुनगुनाते है Apni Azadi Ko Hum.

DOWNLOAD HERE

To Download the MP3 version of Apni Azadi Ko Hum, click and select the ‘Save As’ option in your location to download this song.

Lyrics

Apani aazaadi ko ham haragiz mitaa sakate nahi
Sar kataa sakate hai lekin sar jhukaa sakate nahi

Hamane sadiyo me ye aazaadi ki nemat paai hai
Saikado qurabaaniyaan dekar ye daulat paai hai
Muskaraakar khaai hai sino pe apane goliyaan
Kitane viraano se guzare hai to jannat paai hai
Kaak me ham apani izzat ko milaa sakate nahi
Apani aazaadi ko ham haragiz mitaa sakate nahi

Kyaa chalegi zulm ki ahale vafaa ke saamane
Aa nahi sakataa koi sholaa havaa ke saamane
Laakh fauje le ke aai aman kaa dushman koi
Ruk nahi sakataa hamaari ekataa ke saamane
Ham vo patthar hai jise dushman hilaa sakate nahi
Apani aazaadi ko ham haragiz mitaa sakate nahi
Sar kataa sakate hai lekin sar jhukaa sakate nahi

Waqt ki aavaj ke ham saath chalate jaaege
Har qadam par zindagi kaa ruk badalate jaaege
Gar vatan me bhi milegaa koi gaddaar e vatan
Apani taaqat se ham usakaa sar kuchalate jaaege
Ek dhokhaa khaa chuke hai aur khaa sakate nahi
Apani aazaadi ko ham haragiz mitaa sakate nahi

Hum vatan ke nojavaan hai hum se jo takaraayega
Vo humari thokaro se khaak me mil jaayega
Waqt ke tufaan me beh jaayenge julmo sitam
Aasmaan par ye tirangaa umra bhar leharaayega
Jo sabak baapu ne sikhalaya vo bhula sakte nahi
Sar kataa sakate hai lekin sar jhukaa sakate nahi

पसंद आया ? अब आप जब चाहे इस गीत तो download करके सुन सकते है | आइये साथ में गाते और गुनगुनाते है Apni Azadi Ko Hum.

DOWNLOAD HERE

To Download the MP3 version of ‘Apni Azadi Ko Hum‘, click and select the ‘Save As’ option in your location to download this song.

Lyrics

अपनी आज़ादी को हम हरगिज़ मिटा सकते नहीं
सर कटा सकते हैं लेकिन, सर झुका सकते नहीं

हमने सदियों में ये आज़ादी की नेमत पाई है
सैकड़ों कुर्बानियां देकर ये दौलत पाई है
मुस्कुराकर खाई है सीनों पे अपने गोलियां
कितने वीरानों से गुज़रे हैं तो जन्नत पाई है
ख़ाक में हम अपनी इज़्ज़त को मिला सकते नहीं
अपनी आज़ादी…

क्या चलेगी ज़ुल्म की अहले वफ़ा के सामने
आ नहीं सकता कोई शोला हवा के सामने
लाख फ़ौजें ले के आए अम्न का दुश्मन कोई
रुक नहीं सकता हमारी एकता के सामने
हम वो पत्थर हैं जिसे दुश्मन हिला सकते नहीं
अपनी आज़ादी…

वक़्त की आवाज़ के हम साथ चलते जाएंगे
हर क़दम पर ज़िन्दगी का रुख बदलते जाएंगे
गर वतन में भी मिलेगा कोई गद्दारे वतन
अपनी ताकत से हम उसका सर कुचलते जाएंगे
एक धोखा खा चुके हैं और खा सकते नहीं
अपनी आज़ादी…
(वन्दे मातरम)

हम वतन के नौजवां हैं हमसे जो टकराएगा
वो हमारी ठोकरों से ख़ाक में मिल जाएगा
वक़्त के तूफ़ान में बह जाएंगे ज़ुल्मों-सितम
आसमां पर ये तिरंगा उम्र भर लहराएगा
जो सबक बापू ने सिखलाया भुला सकते नहीं
सर कटा सकते…अपनी आज़ादी को हम हरगिज़ मिटा सकते नहीं
सर कटा सकते हैं लेकिन, सर झुका सकते नहीं

Old is Gold

Old is Gold

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!